Quotes, Poems or Blogs | Matrubharti

ढलती हुई शाम ने बताया है कि दूर मंज़िल पे रात है
मुझको तसल्ली है ये कि होने तलक रात हम दोनों साथ हैं

काफिराना

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories