Free Hindi Poem Quotes by Shreya | 111633767

🌹🌹💝💝 मोहब्बत कैसी! 💝💝🌹🌹

" वो मुझसे दूर रहकर खुश हैं
तो शिकायत कैसी!
अब मैं उन्हें खुश भी न देखूँ
तो मोहब्बत कैसी!

हाँ शायद वो भूल चुके हैं मुझे
गर हम भी उन्हें भूला दें
तो चाहत कैसी!
डूबकर उनके ख़्यालों में मुझे
जो सुकून ना मिले
तो राहत कैसी!

कभी लिखतें थे वो गजलें मेरी तारीफ़ में
जाने मेरे लिए दिल में उनके
थी हसरत कैसी!
अब मैं अपनी नज्मों-नग्मों में उनका ही
ना करूँ गर ज़िक्र भी
तो इबारत कैसी!

कभी मुझे खुदा बनाकर उन्होंने किया
हर बार सजदा मेरा
थी इनायत ऐसी!
अब मैं उन्हें अपना रब बनाकर दिल से
ना करूँ गर सजदा
तो इबादत कैसी!

वो मुझसे दूर रहकर खुश हैं
तो शिकायत कैसी!
अब मैं उन्हें खुश भी न देखूँ
तो मोहब्बत कैसी! "

🌹💝🌹💝💝🌹💝🌹💝🌹💝🌹💝🌹

Shreya 1 year ago

Thanks a lot dear friend 🙏🙏😊😊🌹🌹

Vipin Prajapati ‍️‍️‍️‍️‍️‍ 1 year ago

Very good creation kaal bhairvi ji 🙏🙏🙏🙏

Shreya 1 year ago

Thanks a lot 🙏🙏🌺🌺

Shreya 1 year ago

THANKS SO MUCH 🙏🙏

@ Karn Raaz @ 1 year ago

Today's Best Gazal on MB for me ...💘

SMChauhan 1 year ago

Wahh 👏✍️

Shreya 1 year ago

आभार आपका 🙏🙏

View More   Hindi Poem | Hindi Stories