Free Hindi Shayri Quotes by अनुभूति अनिता पाठक | 111817959

मान लिया सारी गलती मेरी थी
हमने कब तुम्हें गलत समझा है
चलो छोड़ो ये शिकवा शिकायतें
अब इन बातों में भला क्या रखा है

-अनुभूति अनिता पाठक

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories