Free Hindi Shayri Quotes by Prahlad Pk Verma | 111753760

बहुत हों गये हैं चाहने वालें
क्यूँ न अब चाहत को कम किया जाये...
बहुतों ने कर ली बेवफाई
क्यूँ न अब किसी को रुलाया

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories