તારા નામની જ ભરતીને તારા નામની જ ઓટ, ભલેને હું ગમે એટલું લખુ સદાય રહેશે તારી વાહ ની ખોટ..........

तुम हमे जान पाओ तुम्हे
इतनी फुर्सत कहा,

ओर हम तुम्हे भुला पाते इतनी हममें
जुर्रत कहा,,,@

नजरें करम मुज पर इतना न कर,
की मे तरी मुहोब्बत के लिए बगी हो
जाऊ,
मुझे इतना ना पिला इश्क़ -ए-ज़ाम् की,
मे ईश्क के ज़हर का
आदि हो जाऊ,,@

Read More

कलम भी देखो जैसे ईश्क़
कर रही हे,,@
अल्फाज़ो को लेकर
ज़ज़्बातो पर मर रही हे,,,

कभी टूटा नहीं दिल से
तेरी याद का रिश्ता,
गुफ़्तगू हो न हो ख़याल
तेरा हि रहता हे,,,, @

तू चेहरे की बढ़ती सलवटों की
परवाह ना कर,

हम लिखेंगे अपनी शायरी मैं हमेशा
जवाँ तुझको,,,,@

इश्क के बाजार में ना बिकने वाला
एक पहलू था मैं...
वो लबों पर मुस्कान लेकर आया
और मेरा खरीदार
बन गया...

जायका अलग है हमारे
लफ्ज़ों का,
कोई समज नहीं पाता,@
कोई भुला नहीं पाता,,,

दुनिया में सबसे अच्छा तोहफा वक्त है,
क्योंकी जब आप किसी को अपना वक्त देते हो,
तो आप उसे अपनी जिंदगी का वह पल देते हैं,
जो कभी लौटकर नही आता,,@

Read More

अकेले वारिस हो तुम,
मेरी बेशुमार,
चाहतो के,,,,@

"किस्मत की आंच पर दिल
को जला कर तो देखों,,,
हम एकतरफा आशिकों की
बस्ती में आ कर तो देखों,,,,,@