Hey, I am on Matrubharti!

आज उसने अजीब सवाल कर दिया मुझसे
मरते तो मुजहपर हो फिर जीते किस के लिए हो __?

थोड़ा होसला मिलेगा _?
ज़रा सी ज़िन्दगी गुज़रनी है ____~~

मेरी बातो मे जीकर तेरा तेरी बातो मे जीकर उसका
अजीब है ये इश्क़ अपना ना वो तेरा ना तू mera_____

सुना है बारिश मे हर दुआ क़बुल होती है
अगर इज़ाज़त हो तो दुआ मे तुझे मांग लू__?

वो जो मरने पर तुले है लोग
उसने जी कर भी तो देखा होगा______••••

હું એનો થઈ ગયો સુ તે તો જાણી ગઈ સે તે
પણ તે કોની સે એ વિચાર મને સુવા નથી દેતો ____

मोहब्बत है तूमसे तुमको कैसे बताऊ मे
तारीफ करू माथे को चुमू या फिर शायरी सुनाऊ????

उसे मेरी मुस्कुराहटे पंसद थी
सो ले गया छीन के _____¿¿¿¿_____

बहोत देर हो चुकी है
अब उसे भूलना ना मुंकिन है _____

सिर्फ इशारों में होती महोब्बत अगर,
इन अलफाजों को खुबसूरती कौन देता?
बस पत्थर बन के रह जाता ‘ताज महल’
अगर इश्क इसे अपनी पहचान ना देता..

Read More