मेरे बाप से ही नहीं हुआ तो मेरे बाप की कसम, किसी से भी नहीं होगा...

बस यही एक बात ने मुज्मे इतनी मोहब्बत जगाई है
की तुम्हारी हर तस्वीर को खुदा ने अपनी बताई है

-Raj King Bhalala

There is something infinitely healing in the repeated refrains of nature—the assurance that dawn comes after night, and spring after winter.

epost thumb