लेखनी मेरा विस्तार ..(3) पुसतकों का प्रकाशन.. "एक मुसाफिर ऐसा भी" बाल ठाकरे,"नस बंदी से नोट बंदी तक"काव्य संग्रह,"विकास पथ नरेन्द्र मोदी"Biography तीनों पुस्तकें"amazon" पर उपलब्ध हैं। ebook.."एक कदम आत्मनिर्भरता की ओर".coming soon new ebook... गजल़

राधे-राधे बोलकर जाग उठा संसार
कृष्णयुक्त रश्मियाँ हुईं, यही जगत व्यापार "
-------#डॉ_अनामिका --

-डॉ अनामिका

"हसरतों के शहर में सहर होते देखा है
खुशियों को ढूंढना है
हौसलों को कठिन होते देखा है
बमुश्किल से जो आया सौगात
उसे हसरतों के काबिल देखा है
अजी मिलता नहीं फतह ऐसे ही
मंजिलों पर *शब* को मिटते देखा है "
------#डॉ_अनामिका --

-डॉ अनामिका

Read More

जिन्दगी के उसूलों को तोड़ फूल बांटने वालों
घर के बाड़े में देख,कोई बुजुर्ग अपने फूलों की राह देख रहा होगा...
---#डॉअनामिका --

Read More

चलो कुछ अच्छा सुनते हैं और कुछ अच्छा सीखतें हैं...

https://www.kooapp.com/koo/%E0%A4%A1%E0%A5%89%E0%A4%85%E0%A4%A8%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%BF%E0%A4%95%E0%A4%BE/66d54d05-dc5d-4f42-8d2a-0bec7786c1b6

Read More

वर्षों से चला आ रहा है इक प्रचलन..
"संध्या" के बाद है "उषा" से "मिलन"
उषा की कांति इतनी निराली है
मानों इंद्रधनुषी रंगों ने छलकाया
रंगों की प्याली है. .
मानव चल पड़ा लक्ष्य की ओर
किरणें बिखर गयी चहूँओर
सुप्रभात🙏 सबको. .

-डॉ अनामिका

Read More

धरती पर हरीतिमा
दिख रही चहुँओर
सविता ओट से निकल आयी किरणों की
लालिमा छा गयी है हर ओर
#डॉरीनाअनामिका

-डॉ अनामिका

Read More

कदमों का हर सोपान
सफलता की श्रृंखला है बस आगे बढते जाना है.

डॉरीना

अमृत की वर्षा से भर गया संसार
धरा के कण कण पर किरणें बरसा रहीं हैं प्यार.. उषा-निशा सहोदरा है, बस रंगों का है व्यवहार
जाग उठो अब धरतीवासी,सविता बुला रही इसपार

---डॉरीनाअनामिका

-डॉ अनामिका

Read More

आपके मन मस्तिष्क में ऊपजी विचारधारा और उससे निकलने वाली सकारात्मक ऊर्जा .. ब्रह्मांड तक बड़ी ही सूक्षमता से कंपन के माध्यम से पहूंचतीं हैं. .. अत: विचारधारा ही आपकी ईश्वरीय शक्ति है. .
डॉरीनाअनामिका

Read More