work in progress.... writer on its way.

किसी में खूबियां होती है,
तो किसी में खामियां होती है, सबकी अपनी-अपनी मनमर्जियां होती है।
कोई इस पाले सही होता है,
तो कोई उस पाले सही होता है,
सबकी अपनी-अपनी नज़र होती है।
बस! जो अलग होता है, वो देखने का नज़रिया होता हैं।

-Ruchi Modi Kakkad

Read More

कह दो मुश्किलों से, कि कर ले तेज़ धार अपनी शमशीरों की..
हौसलों के परों पर सवार होकर आई है, जिद्द मेरी।।

-Ruchi Modi Kakkad

Read More

वक्त के धागों में जिंदगी ऐसी उलझी...
उलझनों को सुलझाने में हम भी कुछ ऐसे व्यस्त हुए कि अपनो की डोर एक-एक करके छूटती चली गई...और हम ठीक से मौन भी न कर सके।


-Ruchi Modi Kakkad

Read More

एक अच्छा लेखक, कहानियों के साथ-साथ किरदारों को भी जीवंत कर देता है.... आप कहानियां बेशक भूल जाए परंतु किरदार सदैव के लिए आपके दिल में बस जाते है और ताउम्र आपके साथ रहते हैं।।

-रुचि मोदी कक्कड़

Read More

तमस की पराकाष्ठा ही अरुणोदय का समय तय करती है...
रात जितनी स्याह होती है, सुबह उतनी ही सूर्ख होती है।।



Ruchi Modi Kakkad

Read More