उठाता हु कलम जब जब मैं कुछ लिखने को, तुझे लिख देता हूं तेरी खूबी लिख देता हूं।

तुमसे किया हुआ वादा मैं ज़रूर निभाऊंगा।

epost thumb

कुछ तो बात जरूर है चाय में यूही नही इसके इतने खरीददार है।

epost thumb

I love you papa

epost thumb

kuch pata nahi tum meri ho bhi paogi yaa nahi.

epost thumb

Ab to meri kalam bhi mujhse sawaal karne lagi hai,

epost thumb

भले ही इश्क़ तुमको ना हो हमसे,
मगर फिर भी मेरा साथ मत छोड़ना।

-Shubh Tripathi