Free Hindi Shayri Quotes by Hardik Boricha | 111765703

यूं ना छोड़ ज़िंदगी की किताब को खुला, बेवक्त की हवा ना जाने कौन सा पन्ना पलट दें।

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories