मोतियों से पिरोयी थी मोहब्बत मैंने,
,,,,,,,,,,,,,मगर खता ये हुई कि
धागा ही कच्चा चुन लिया मैंने,,,,@

Hindi Shayri by Abbas khan : 111901922

The best sellers write on Matrubharti, do you?

Start Writing Now