Quotes by Rahul in Bitesapp read free

Rahul

Rahul

@rahul.9970
(30)

......किसी ने सच ही कहा है,

सुंदरता सादगी में ही होती है।

इसका प्रमाण "तुम" खुद हो।




१८_१९😊

.......और फिर यूं होता है,

सुकून की व्याख्या करने लगे तो,

तुम्हारा मेरे लिए जरा सा जो वक्त मिलता है,

वही कोई अटका सा रह जाता है।

Read More

.........तुम्हारे साथ हुआ कुछ पलों का संवाद ,
न जाने कितनी ऊर्जा दे जाता है।
😊🍁

..........समुंदर किनारे की रेत पर चलते वक्त ,
हमारे पांव के निशान बनते है।
और हल्के से कोई लहर आकर उसे अपने साथ ले जाती है,
ठीक उसी प्रकार कोई होता है ,
हमारा अजीज ,
मगर वक्त के साथ अपनी सारी यादें ,लगाव के पल ,
उत्सुकता के क्षण सब अपने साथ ले जाता है।
और ,हम उन्हें बार बार याद करने के अलावा हमारे हक में कोई बात नही होती है।
😊🥰,
18_19.

Read More

......व्याप्त असलेल्या भावनांना प्रदीप्त करणारी ,
कोणीतरी एक कारक असतेच😊

.......#alone .
दो अवस्थाएं।
चाहे शाब्दिक तौर पर ,एक सा लगे मगर ,
उनके अर्थ और मतितार्थ अलग है।
जैसे एकांत और अकेलापन।
अकेलापन आता है,
और एकांत हम चुनते है।
न जाने कितने ही रिश्ते और लोगों से घिरे होते हुए भी,
हमारी मनोभावनिक स्थिति को महसूस तथा उसे प्रवाही करने के लिए कोई न होना यह सबसे अधिक ,
क्लेशदाई भावना का भंडार है।
एकांत हम तब चुनते है ,
जब सभी भावनाओ से परे होने लगते है।
कहने और निभाने में अंतर होता है।

Read More

....... जो नया विचार दे ,
वही गुरू हैं!

....रिश्तों की उम्र हैसियत की सांसों पर टिकी है।

........उसका स्वभाव उस तितली की तरह है,
जो अपने मन से फूल को चुनती है।
तुम्हारा वह फूल होना शायद तुम्हे ,
कुछ देर तक जहां के सबसे हसीन दौर में गुजरने को तुम्हे मजबूर कर देगा ।
और अगले ही पल उसके ओझल हो जाने से ,
मुरझाए हुए ख्वाब में डुबाने को।
मिलना और बिछड़ना जिंदगी की रीत है।
गर ऐसी स्थिति आ जाए तो ,
उससे उभरने का एक कारगर तो नही,
मगर शायद कुछ हद तक सही होगा,
की हम उस पल को याद करे जब "कोई" हमसे मिला नही था।
18_19.

Read More

.... "अनुउपस्थिती " ही "उपस्थिती " की किमत बताती हैं.

१८_१९.