Free Hindi Shayri Quotes by Tara Gupta | 111712454

मन बावरा ढूंढ रहा, केवल तेरी
एक झलक।
चुपके चुपके तकती हूं, झपकूं नहीं
कभी पलक। मुंदी हुई आंखों में,
जगीहुई ,
मन में जो आस।
तृप्ति की दो बूंदों से
बुझ जाएगी
मन की प्यास।

-Tara Gupta

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories