Free Hindi Shayri Quotes by PriBa | 111749537

काश की मेरी किस्मत में इतनी खुशी नसीब होती

तेरी बाहों में मेरे जिस्म से ये आखरी सांस निकली होती


तोह होता ना अफसोस ये खुदा तेरे रुसवाई का


लेकिन कुदरत को हमारा मिलना ना था मंजूर

इसमें तेरा नही , यकीनन मेरी किस्मत का ही था कसूर

-PriBa

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories