Free Hindi Shayri Quotes by Manju Bala | 111434418

एक कशमकश सी चलती है दिन रात संग घड़ी के कांटे सी ,क्या नुक्स रह गया हममें की रास नहीं आता यह खूबसूरत सा जहां

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories