Free Hindi Poem Quotes by Trisha R S | 111590971

आज की बर्बादी देख कर रोना आया
मुस्कुरा दी आंखें की जब तेरा खोना याद आया

आंखें रात रात भर जाग उठती हैं
जब तेरे यादों के बिन सोना याद आया

तुम क्या जानो, पैरों तले से जमीन कैसे खिसक जाती
मैं आज भी गिर उठाती हूँ
जब तेरा, तेरी बातों से पलट जाना याद आया

मैं खुद से अलग-थलग सी हो जाती हूँ
जब मुझमें तेरा होना याद आया

मत पूछे कोई बेबसी का सबब
मुस्कुरा देती हूँ, जब-जब आँखों में रोना आया...।।
Trisha R S.. ✍️

-Trisha R S

View More   Hindi Poem | Hindi Stories