Free Hindi Blog Quotes by Poetry Of SJT | 111737243

चांद को सवरने की ज़रूरत क्या है ,
दरिया को ठहरने की ज़रूरत क्या है ,
आप तो ख़ुद नूर हो इस गुलशन का ,
नूर को निखरने की ज़रूरत क्या है ,

कली को फूल बनने की ज़रूरत क्या है ,
बन के फूल बिखरने की ज़रूरत क्या है ,
कुछ फूलों की हिफाज़त कांटे करते हैं ,
बाग में माली रखने की ज़रूरत क्या है ,

प्यार को सिर्फ़ जताने की जरूरत क्या है ,
बिना रूठे को मनाने की ज़रूरत क्या है ,
ज़रूरी नही इश्क़ में जिस्म ही मुकम्मल हो ,
सिर्फ जिस्म में समाने की ज़रूरत क्या है ,

View More   Hindi Blog | Hindi Stories