Free Hindi Sorry Quotes by सनातनी_जितेंद्र मन | 111746255

तोड़ कर इन भरमी दिवारों को,
वहमों में जीना छोड़ दिया।
कैद कर खुद को खुदी में,
महफिल-ए-जाम़ पीना छोड़ दिया।।

read more

View More   Hindi Sorry | Hindi Stories