Free Hindi Blog Quotes by Asha Saraswat | 111788246

सुगढ़ औरत,
नारी वह है
जो गृह कलह,
मानसिक पीढ़ा,
शारीरिक प्रताड़नाएं,
आंतरिक द्वंद्व और
सामाजिक उपेक्षाएँ
सह कर भी आने
वाले के लिए
मुस्करा कर
दरवाज़ा
खोलती
है..

#WomensDay

Asha Saraswat 4 months ago

बहुत सुंदर 😊

कैप्टन धरणीधर 4 months ago

आश है नारी विस्वास है नारी प्यार है नारी गृहस्थ का आधार है नारी

Asha Saraswat 4 months ago

पसंद करने के लिए बहुत बहुत आभार 😊

shekhar kharadi Idriya 4 months ago

बिल्कुल सार्थक कहा क्योंकि नारी सबकुछ कष्ट झेलकर भी मुस्कुराती है।

View More   Hindi Blog | Hindi Stories