Free Hindi Poem Quotes by sneh goswami | 111795744

दोस्ती और दुश्मनी के सिलसिले को तोड़ कर।
एक दिन सो जाउंगी मैं
मिट्टी की चादर ओढ़ कर।।

-sneh goswami

View More   Hindi Poem | Hindi Stories