Free Hindi Poem Quotes by Trisha R S | 111524936

मैं फ़क़त रात भर ना सोयी उन पंक्तियों के खो जाने पर
जिसमें तुम्हारे होने की मैंने कल्पनायें की थी
तुम सोचो, मैं कितना रोयी होंगी
तुम्हें हक़ीक़त में खो जाने पर...।।

Trisha R S... ✍️

lamho_ki_guzarishey

View More   Hindi Poem | Hindi Stories