Free Hindi Shayri Quotes by Kusum | 111572782

एक चाय की प्याली पीते हुए खुद को भी समझने की कोशिश करती हूं मैं,
लेकिन अक्सर चाय खत्म हो जाती है लेकिन मेरा वजूद घुल जाता है हवा में चाय की भाप की तरह।

Mohd Osama 2 years ago

YouTube number number how theek ho na theek ho your my please store karna mera number par call karna hai9625269314

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories