Free Hindi Shayri Quotes by Divya Modh | 111636138

कभी हमने ही मांगी थी जिनकी आंखों में आसूं न आने की दुआ
आज वो ही हमे रुलाकर दुआ में किसी और को मांग रहे है।।

-diya's poetry

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories