Free Hindi Shayri Quotes by Hardik Boricha | 111765705

*लफ़्ज़ों के बोझ से थक*
*जाती है*
*ज़ुबान' कभी कभी...*
*पता नही 'खामोशी'....*
*'मज़बूरी' है.? कि 'समझदारी'.?

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories