Free Hindi Poem Quotes by Darshita Babubhai Shah | 111805911

मैं और मेरे अह्सास

धूप में पेड़ की छाया में रुकना है l
आज सूर्य के ताप को भूलना है ll

क़ायनात मे किसी से डरना नहीं l
सिर्फ़ ख़ुदा के सामने झुकना है ll

अच्छा बूरा सभी यहां भुगतना l
कर्मों के हिसाबो से डरना है ll

मुहब्बत मे मिला जो गम तो l
ममता की गोद मे फ़सना है ll

कईं ग़मों से घिरे हुए हैं लोग l
सब को हसाके अब हसना है ll
१६-५ -२०२२

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

वाह क्या बात है बहुत खूब

Daxa Bhati 1 month ago

Positive poem👌

View More   Hindi Poem | Hindi Stories