Free Hindi Shayri Quotes by Kusum | 111557632

लोगों को लेकर चला था बूंदों की तरह,
सोचा समंदर बन जाएगा,
पीछे मुड़ देखा तो खाली रेत दिखी।

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories