Free Hindi Poem Quotes by Mohit Rajak | 111752651

तू इस मन का दास ना बन
इस मन को अपना दास बना ले

देखो मन के खेल निराले नित्य नित्य नव डेरा डाले
नए अश्व के जैसा च

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories