Free Hindi Poem Quotes by रामानुज दरिया | 111779496

भूले   से   भी   जान  भूल  मत  जाना
नाज़ुक  दिल  है  ज्यादा  मत  दुखाना।

आ  गया  हूँ  मैं धनवानों की कतार में
जान  तू  ही  है  मेरा  असली खजाना।

प्यार  तुमसे  है,  बस  यही  था  कहना
आता  नहीं  मुझे  ज्यादा  बातें  बनाना।

चाह  है  मिलने  की  हम  मिलेंगे जरूर
रोक सकेगा  कब  तक  बेरहम जमाना।

-रामानुज दरिया

shekhar kharadi Idriya 4 months ago

वाह क्या बात है बहुत खूब

View More   Hindi Poem | Hindi Stories