Free Hindi Poem Quotes by Darshita Babubhai Shah | 111804933

मैं और मेरे अह्सास

खानाबदोश सी जिंदगानी है l
देश परदेश यही कहानी है ll

सालों बाद महफ़िल सजी हैं l
नई ताजा गजलें सुनानी है ll

गा रहा है जो प्रभात फेरी l
सुनले तेरी मेरी कहानी है ll

युगों तक खामोश रहे तेरे लिए l
अब बात दिल की बतानी है ll

आज किसी की परवाह नहीं हमे l
खुल्ले आम मुहब्बत जतानी है ll
११-५-२०२२

सखी
दर्शिता बाबूभाई शाह

View More   Hindi Poem | Hindi Stories