Free Hindi Poem Quotes by Bhumika | 111652077

मुहब्बत का आलम बिखर गया,

हम मुर्जा गए उससे जुदा होकर,

वो गैरों के साथ और भी निखर गया.....

- "लिहाज"

View More   Hindi Poem | Hindi Stories