Free Hindi Poem Quotes by रामानुज दरिया | 111772840

चीखती है कोख़ मां की बेटे की लताड़ से
ढह जाते हैं सारे किले चाहे बने हों पहाड़ से।

शर्म से झुक जाता है सर एक गुरु का, जब
चयन शब्दों का करता है शिष्य, तिहाड़ से।

चरण स्पर्श करवाती है सभय्ता अनजान से
असभ्य भी आते हैं किसी न किसी कबाड़ से।

हो सकता है कि अपनी सल्तनत पर गुमान हो
पर राई स है व्यक्तित्व,भले लगते हों पहाड़ से।

-रामानुज दरिया

View More   Hindi Poem | Hindi Stories