Free Gujarati Poem Quotes by Hetal | 111819212

मुझसे पहेली सी मोहोब्बत मेरे महेबूब ना मांग
मेने तो समझा था तु है नज़ाकत-ए-हया,तेरा ग़म है
तों गम-ए दहर का झगड़ा क्या है
तेरी सुरत से है आलम-ए-बहारो का‌ समा
तेरी आंखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है!
..............?😌❤️❤️❤️

View More   Gujarati Poem | Gujarati Stories