Free Hindi Shayri Quotes by Hardik Boricha | 111796314

विधि के विधान को स्वयं विधाता भी कहाँ टाल पाए
भाग्य में थीं रुक्मणी और प्रेम राधा से निभाए

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories