Free Hindi Poem Quotes by shekhar kharadi Idriya | 111804742

माँ ममता का सागर है,
पहाड़-सा विश्वास है ।

माँ बरसती बारिश सी
बूंद-बूंद में मीठा जल है ।

माँ रिमझिम फुव्वारे सी
स्नेह है, करुणा है, धैर्य है ।

माँ निस्वार्थ बहती-सी,
नदी है, झरना है, झील है ।

माँ पुष्प पुष्प में खिली सी
श्वास है, हवा है, इत्र है ।

माँ मृदु डांट-थपकी सी
चुंबन है, आलिंगन है, स्पर्श है ।

माँ उचित-अनुचित सी
खदान है, संस्कार है, गुरु है ।

माँ अपार श्रद्धा सी
कावा है, काशी है, कैलाश है ।

माँ नित्य प्रेरणा सी
बल है, उमंग है, साहस है ।

माँ ऋतु रक्षित सी
छांव है, छाता है, कबलं है ।

माँ सर्व यात्रा धाम सी
व्रत है, उपवास है, पूजा है ।

माँ हृदय पुकार सी
राम है, रब है, अल्लाह है ।

-© शेखर खराड़ी
तिथि-११/५/२०२२, मई

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

हृदय तल से आभार 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

Dr. Damyanti H. Bhatt 1 month ago

Superb, 👌👌👌👌👌 heart touching

K.Purnima.S 1 month ago

Really nice and heart touching

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

Shefali 1 month ago

Superb 👌🏼

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से बहुत धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से धन्यवाद 💐

shekhar kharadi Idriya 1 month ago

दिल से धन्यवाद 💐

S Sinha 1 month ago

Hundred percent true!

Ghanshyam Patel 1 month ago

👍👌🙏🙏🙏 Suparb

View More   Hindi Poem | Hindi Stories